खुद से dosti….(Self Friendship) One Story By CrazyPyar

IMG 20220217 215626 268 - Crazy Pyar
pyarcrazy

How many exciting about 2022wow onestly after sarounding 2022thoue the city just this year mumbio आब बदल चुका था हर शहर बधद्ले हे हर शहर कि तरा corona या corfe मे ulaja हुआ था ओर मुजसे तो इसका prosonal शिकवा था बड़े शहरों मे दिल टूटने कि यहि सजा थी अकेला पन अपका सबसे जदा दुशमन था अकेला पन ओर वफदार दोस्त था
दिल टूटा किस ने तोड़ा या किव तोडा ये 2021 कि तरहा caldear से निकाल दिया था मिटा देना चहतिथि सारा दिन काम मे busy रखदिया था कुध को काम नहीं होता तो overthking मे गुजर जता था दिन .

i want a flatment some company

लेकिन life के problem इथनि असनि से solve होगे तो ओ life किसि रहेगी नहि ना सो how it is falt story येक दिन मेने मेरे fevrate restron से lagiz बिरियनि मागि मगर मुझे उसका सोध हि नहीं आया अगलि सुभ चाय में डलि अदरक कि खुशबु नहीं आइ अगलि दिन जुखाम होने लगा चक्कर से अने लगyou nkow this is like i desided positive smile थे इस लिए muje home corotain रखा but मेरे flult ment कि riport negetive थि she did any situvetion back her par and go sparet form mey har par so her मे stick and har back some day time and back a day a last think i am alone ओर 14 दिन मुझे अकेले गजारने थे

i hetend sombady hatend on my hart

IMG 20220125 230927 087 - Crazy Pyar

and ओ किसी ओर शहर मे घुम रहा था i ओन way may on way who tack har fast day vacsiletion i had break down and i dont prepear that i did not on what to do stong i need a help to be need a tell some bady कि मे ये 14 दिन मे करु तो क्या करु क्या मेने सब से पुछा google से youtub से prente से friend से यहा तक beaem से भी
सब ने अपनी कहि ओर मेरि भी सुनि phoen रखके बध ये अहसास होता कि सब मेरे पास हे लिकिन मेरे साथ हे पर कुछ देर मे ओ अहसास टनडा सा हो जता था ओर येसा लगता था मे हि हु मेरे साथ someone told me कि i am stick तो i amnpy ot stick किसि ने अपना ख्याल रखने को कहा किसि ने तुम बस ओ करो जिससे तुमे खुशी मिले मेने कुछ दिनो मे मेने सरे घर कि सफाइ कि my enter boby was paen but i wantend to feel busy
i next to be few day reading lisning a music waching a movie i am like crezy i pley night gemes on plenat zoom and meke my mend me happy uncotusly i startend to lisning to my self my thouth my feeling my bodys येक silver line येक थि मे फ़िरसे लिखने लगि ये जो लोग कहते हे ना टूटे हुए दिल से piver art निकलता हे
complit bulsent सच तो ये हि कि यहि कि दिल के टुकड़ों को शहै से जोड सके ओ बिखरे हुए टिकडो को समेट ने मे भी वक्त लगता हे ओर मुझे बहुत वक्त लगा था कुछ दिन ओर लगे i got my sanses back shaver मे body wash कि कुश्बु अने लगि थि ओर मिर्चि फ़िरसे तिखि लगने लगी

ये तो अछा था i am get to be good

हर दिन parfect नहीं था and day but its okto be i was physicaly week and to be breklest and wont see bed then on nice i miss him alot but i longer feet rich out you see feal of me i fael of me self पर अपने साथ वक्त बिताने के बात लगा कि मेरि company इथनि भि बुरि नहीं हे i fend free i like my self nkow one around me i feld free and comfteble in lonly 70 day lete i turst negetive for the vairas and hart break even i nkow a un fortunetly sey this thought and day was tip down and i could belive and kupdilness and to be my self में अपने अकेले पन से बगने मे expart हो गै थी
i prtended wasent तो day मे येक gilt मे जि रहि थी i not doing in up i knowing in up मे येक feliar samj रहि थि just beacuse i feld in reltionship पर मे अब जनती हु कभी कभी life मे भागने कि नहीं रुकने कि जरूर होती हे जल्द बजी कि नहि बेदिदक बात करने कि जरुरत होती हे किसि दूसरे कि नहि अपनि जरूरत होती हे

Leave a Reply

You are currently viewing खुद से dosti….(Self Friendship) One Story By CrazyPyar